Halloween 2023: क्‍यों मनाया जाता है ये ‘डरावना त्‍योहार’, कद्दू से इसका क्‍या है कनेक्‍शन? बड़ी दिलचस्‍प है कहानी

HomeEvents

Halloween 2023: क्‍यों मनाया जाता है ये ‘डरावना त्‍योहार’, कद्दू से इसका क्‍या है कनेक्‍शन? बड़ी दिलचस्‍प है कहानी

हैलोवीन, जो दुनियाभर में प्रतिवर्ष 31 अक्टूबर को मनाया जाता है, एक रोमांचक और डरावना त्‍योहार है जो भूतों, और अन्‍धकार के दिन के रूप में मनाया जाता है

Halloween Party 2023 in India: A Spooktacular Celebration
ગુજરાત ખાસ સમાચાર: શાંત યુદ્ધ જ્યારે તમામની નજર 4 જૂને લોકસભા ચૂંટણીના પરિણામો પર ટકેલી છે, ત્યારે વડોદરા ભાજપ માટે, ચૂંટણીની પૂર્ણાહુતિ પક્ષની નાગરિક સંસ્થાની ચૂંટાયેલી પાંખના હોદ્દેદારોની ટીમમાં ફેરફાર માટે બોલ રોલિંગ સેટ કરી શકે છે.

हैलोवीन, जो दुनियाभर में प्रतिवर्ष 31 अक्टूबर को मनाया जाता है, एक रोमांचक और डरावना त्‍योहार है जो भूतों, और अन्‍धकार के दिन के रूप में मनाया जाता है। यह प्राचीन केल्टिक त्‍योहार समराट सम्‍मर के अंत को चिह्नित करता है और उत्तरी गोलार्ध में आने वाली ठंडी जंगलों का संकेत देता है।

हैलोवीन का मतलब होता है ‘संतों की रात’ और इसे अमेरिका के अलावा भी दुनियाभर में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। इस त्‍योहार को लोग बच्‍चों के लिए एक अद्भुत मौका मानते हैं, जहां वे अपने पसंदीदा कारेक्‍टर के रूप में खुद को बदल सकते हैं और स्‍कूल या पड़ोस में घूमने के लिए ड्रेस अप कर सकते हैं।

हैलोवीन की शुरुआत केल्टिक त्‍योहार सम्‍मर के अंत के रूप में हुई, जो इंग्‍लैंड, वेल्‍स और आयरलैंड में मनाया जाता था। यह एक बड़ा त्‍योहार होता था, जिसमें लोग भूत, भूतों की आत्‍माएं और अन्‍धकार के देवताओं की पूजा करते थे। इसकी रात को लोग अपने घर के आसपास के खेतों में चलती आगों के चारों ओर चक्‍कर लगाते थे, जिससे वे अपने घरों को बुराइयों से बचा सकते थे।

हैलोवीन के दौरान लोग विभिन्‍न प्रकार की कद्दू के बने भूत, पंपकिन और डरावने चेहरे बनाते हैं, जिन्हें जाक ओ लैंटर्न कहा जाता है। इन जाक ओ लैंटर्न को लोग अपने घरों के बाहर रखते हैं ताकि इससे भूतों को रास्ता न मिल सके।

हैलोवीन के दिन लोग रंगीन और डरावने कपड़े पहनते हैं और दरवाज़े पर जा के डरावनी कहानियाँ सुनते हैं। इस त्‍योहार के दौरान लोग भूतों के रूप में भी घूमते हैं और लोगों को डराते हैं। यह एक मजेदार और रोमांचक त्‍योहार है, जिसे लोग बड़े ही उत्‍साह के साथ मनाते हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: